बवाल की आशंका, मंत्रियों का जमावड़ा, आगरा हाई अलर्ट, देखें खबर

आगरा। ताजनगरी आगरा में आज जहां उत्तर प्रदेश सरकार के 11 मंत्रियों का जमावड़ा होगा । यानी शहर में प्रदेश की सरकार होगी तो वहीं दूसरी तरफ बवाल का आज दूसरा दिन है ।
दूसरे दिन खुफिया इनपुट की रिपोर्ट ने पुलिस प्रशासन के होश उड़ा कर रख दिए हैं । खुफिया इनपुट की रिपोर्ट ने ताजनगरी आगरा में बुधवार को फिर बवाल की आशंका जताई है । जिसको लेकर आगरा में हाई अलर्ट है ।

आपको बताते चलें कि बीती 2 अप्रैल को SC ST मामले में माननीय सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय के विरोध में प्रदर्शनकारियों ने हिंसात्मक प्रदर्शन किया । तोड़फोड़ बलवा उपद्रव आगजनी और पथराव तक हुआ जिसके चलते शहर भर में अराजकता का माहौल रहा । हालांकि मंगलवार को पुलिस ने करीब 100 लोगों को हिरासत में लेकर 29 लोगों को जेल भेजा । 31 मुकदमे दर्ज किए । जिसमें 8000 उपद्रवी नामजद है। मगर बुधवार को एक बार फिर बवाल की आशंका जताई गई है। रिपोर्ट में बताया गया है कि तमाम संगठन धरना और प्रदर्शन कर सकते हैं । इस धरने प्रदर्शन में शामिल लोग एक बार फिर बवाल कर सकते हैं । जिसको लेकर एसएसपी आगरा अमित पाठक और प्रभारी DM सीडीओ रविंद्र कुमार बेहद सख्त नजर आ रहे हैं ।

आगरा में बवाल ना हो शांतिपूर्ण तरीके से सारा मामला निपट जाए। इसके लिए रात भर पुलिस प्रशासन के अधिकारियों की बैठक चली। शहर को सेक्टर में बाटकर मजिस्ट्रेट और पुलिस अधिकारियों की ड्यूटी लगाई गई । कक्षा 1 से 12 तक के सभी स्कूल और कॉलेज बंद कर दिए गए। शराब के ठेके भांग के ठेके मॉडल शॉप बंद करने का निर्णय भी जिला प्रशासन ने लिया है।
मिश्रित आबादी वाले इलाकों में लगातार फ्लैग मार्च किया जा रहा है। आर ए एफ, आर आर एफ और पीएसी बल को तैनात किया गया है। तो वहीं पुलिस बबाल करने वाले लोगों को पीछे से सपोर्ट करने वाले नेताओं पर लगातार नजर रखे हैं।

इसके अलावा सपा बसपा कांग्रेस दलित कार्यकर्ताओं के साथ बहुजन मुक्ति मोर्चा राष्ट्रीय मुस्लिम मोर्चा इंडियन एसोसिएशन बहुजन क्रांति मोर्चा राष्ट्रीय मूलनिवासी महिला संघ प्रोफेसर टीचर्स एसोसिएशन पर भी नजर रखे हुए हैं।
SSP आगरा ने साफ कर दिया है कि किसी को भी जबरन दुकान बंद कराने और बाजार बंद कराने की अनुमति नहीं होगी। साथ ही साथ धरना और प्रदर्शन नहीं किया जाएगा । अगर ऐसा कोई करता है तो पुलिस उसके खिलाफ सख्त कदम उठाएगी ।

खुफिया इनपुट के बाद डीजीपी ने सख्ती से निपटने के दिशा निर्देश जारी किए हैं। जिसको लेकर प्रशासन ने पूरी ताकत झोंक दी है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*