टैंकर की चपेट में आया 4 वर्षीय मासूम,मौके पर मौत, इस घटना का कौन है वास्तविक जिम्मेदार?

आगरा। शनिवार सुबह एक पानी के टैंकर की चपेट में आने से 4 वर्षीय मासूम की मौके पर ही मौत हो गयी। मासूम की मौत के बाद मृतक के घर-परिवार में कोहराम मच गया और वहीँ शव को रख मासूम के माँ-बाप रोते-बिलखते रहे। इस घटना में टैंकर वाले के खिलाफ किसी भी कानूनी कार्यवाई की बात सामने नहीं आई है जबकि पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर उसे पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक़ मृतक मासूम वेद शुक्ला के पिता अभय शुक्ला यमुनापार में भावना नगर के कल्पना कुंज के निवासी हैं। बताया गया है कि पानी के टैंकर वाला उनके रिश्तेदार है। रिश्तेदार होने के नाते मृतक वेद की दादी मां ने उसे घुमाने के लिए पानी के टैंकर पर बैठा दिया था। गलियों से गुजरता हुआ यह पानी का टैंकर जैसे ही एक मोड़ पर पहुंचा तो मुड़ते समय एक झटका लगा और 4 वर्षीय मासूम वेद टैंकर के नीचे आ गया जिससे उसकी मौके पर मौत हो गई। इस घटना के बाद से मासूम वेद के घर में कोहराम मच गया।

बहरहाल यमुनापार क्षेत्र में पानी के टैंकरों से होने वाली है दुर्घटना कोई पहली नहीं है बल्कि इससे पहले भी कई बार दुर्घटनाएं हो चुकी है। वाहन सवार भी कई बार इन टैंकरों की चपेट में आकर घायल हो चुके हैं। इतना ही नहीं पानी की कमी से जुझने वाले यमुनापार के कई क्षेत्रों में पानी भरने को लेकर कई बार लोग आपस में खूनी संघर्ष भी करते हुए दिखाई देते हैं।

शनिवार को घटनास्थल पर पहुंचे सांसद डॉ रामशंकर कठेरिया के प्रतिनिधि नेम सिंह राठौर ने भी इस घटना पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि यह क्षेत्र पानी की समस्या से काफी समय से जूझ रहा है लेकिन अब भाजपा पार्टी के मेयर बन जाने के बाद इस समस्या को दूर करने का प्रयास किया जाएगा।

वहीं दूसरी ओर एक सच्चाई यह है कि यमुनापार क्षेत्र में पानी की समस्या तो है ही लेकिन पानी के टैंकरों का एक माफिया गैंग में यहां सक्रिय रहता है जिसके आगे नगर निगम और प्रशासन फेल है। टैंकर माफियाओं के चलते नगर निगम द्वारा की जाने वाली पानी की सप्लाई को जबरन रोक दिया जाता है ताकि क्षेत्र में पानी की समस्या बनी रहे और क्षेत्रवासी टैंकरों से पानी खरीदने को मजबूर हो। इस तरह से कई सालों से टैंकर माफियाओं ने यहाँ पानी का व्यापार बना कर खूब मुनाफा कमाया है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*