कोर्ट से बाहर राम मंदिर का हल होगा अच्छा विकल्प – इक़बाल हैदर

आगरा। आगरा आए उत्तर प्रदेश अल्पसंख्यक आयोग के सदस्य कुंवर इकबाल हैदर ने राम मंदिर मसले का हल आपसी बातचीत व सुलह-समझौते से होने को एक अच्छा विकल्प माना है। उन्होंने कहा यूँ तो मामला सुप्रीम कोर्ट में विचाराधीन है और जो भी फैसला होगा वह किसी एक के पक्ष में होगा।

लेकिन यदि मामले का हल कोर्ट के बाहर ही कर लिया जाए तो इसमें दोनों पक्ष की जीत होगी और किसी के मन में किसी भी तरह का कोई टीस नहीं रहेगी। साथ ही उन्होंने कहा कि यह मामला पिछले 50 वर्षों से उलझा हुआ है लिहाजा इस का हल अब हर मुसलमान चाहता है।

मुस्लिमों के उत्पीड़न के सवाल पर उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार व केंद्र सरकार को बदनाम करने की साजिश चल रही है। जबकि प्रदेश में कासगंज के अलावा अभी तक कहीं कोई ऐसी घटना नहीं हुई जिसमें मुस्लिमों के उत्पीड़न का कोई मामला सामने आया हो। उन्होंने कहा कि विपक्ष हमेशा से मुस्लिमों को भाजपा से दूर करने की कोशिश करता रहा है।

आगामी 2019 के लोकसभा चुनाव के मद्देनजर हाल ही में हुए सपा बसपा गठबंधन के असर पर इकबाल हैदर कहते हैं कि इसका चुनाव पर कोई खास असर नहीं होगा क्योंकि यह केवल चुनावी गठबंधन है जो कि जनता को रास नहीं आएगा।

वही उन्होंने कहा कि अब आने वाले दिनों में अल्पसंख्यक आयोग निरंतर हर जिले में बैठकर करेगा और जनसुनवाई भी करेगा जिससे कि अल्पसंख्यक लोगों की जो भी समस्याएं हैं वह प्रदेश तक पहुंचे और उनकी समस्याओं का समाधान जल्द से जल्द हो सके। साथ ही उन्होंने कहा कि सरकार ने अपने बजट में अल्पसंख्यकों के विकास के लिए भी अच्छी खासी व्यवस्था की है और मदरसों का भी उच्चीकरण किया है। लिहाजा अल्पसंख्यक समुदाय किसी भी तरह की अफवाहों में ना आकर सरकार के साथ चलें।

About admin 5852 Articles
मून ब्रेकिंग एक ऐसा न्यूज़ चैनल है जिसकी कोशिश हर ख़बर या घटना की जानकारी पूरी सत्यता के साथ और जल्द से जल्द आप तक पहुँचाने की है। मून ब्रेकिंग की शुरुआत सितम्बर 2017 से हुई है। मून ब्रेकिंग आपको नेट के जरिये देश-दुनिया, क्राइम, राजनीति, लाइफस्टाइल और मनोरंजन आदि से जुड़ी पूरी जानकारी उपलब्ध करायेगा। साथ ही किसी घटना पर प्रतिक्रिया देने या आपकी आवाज़ बुलंद करने के लिए मून ब्रेकिंग एक साझा मंच भी प्रदान करता है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*