शमशाबाद के इस गाँव में कछुओं का आतंक, एक महिला को बनाया अपना शिकार

आगरा। शमसाबाद बल्ले के बॉस गांव में उस समय अफरा तफरी मच गई जब शौच के लिए जा रही बुजुर्ग महिला का पैर फिसला और वो अचानक से तालाब में गिर गयी। महिला की चीखपुकार सुनकर जबतक ग्रामीण पहुँचे तालाब में मौजूद कछुओं ने महिला को अपना शिकार बना लिया। महिला की मौत से ग्रामीणों में आक्रोश फैल गया। उस घटना की सूचना मिलते ही क्षेत्रीय पुलिस और वन विभाग के अधिकारी मौके पर पहुँच गए। अधिकारियों ने बमुश्किल महिला के शव को बाहर निकाला और पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। शव की दुर्गति देखकर लोगों ने प्रशासन के खिलाफ अपनी नाराजगी भी जताई।

घटना बीतीरात की है। बताया जाता है कि एक बुजुर्ग महिला रात 9 बजे करीब शौच के लिए गयी थी। लगातार बारिश के कारण महिला का पैर फिसला और वो तालाब में चली गयी। तालाब में मौजूद कछुओं ने महिला के शरीर को खाकर उसकी दुर्गति कर दी। इस घटना के बाद मृतका के परिवार में कोहराम मचा गया।

ग्रामीणों का कहना है कि गांव के तालाब में पिछले कई वर्षों से कछुओं का आतंक मचा हुआ है। जिस कारण ग्रामीणों में दहशत का माहौल व्याप्त है। बारिश के मौसम में तालाब की सफाई ना होने की वजह से तालाब का पानी गांव में आ जाता है और कछुआ गांव में घुस आते है।

महिला की मौत के बाद एसडीएम फतेहाबाद ने गांव का दौरा किया। एसडीएम फतेहाबाद ने वन विभाग के अधिकारियों को तत्काल गांव के तालाब से कछुओं को दूसरी जगह शिफ्ट करने के निर्देश दिए और मृतक महिला के परिवारी जनों को उचित मुआवजा दिलाने का आश्वासन भी एसडीएम द्वारा दिया गया है।

कछुओं के हमले से हुई महिला की मौत के बाद गांव में भय का माहौल व्याप्त है। कोई भी ग्रामीण तालाब के पास जाने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहा। ऐसे में बड़ा सवाल उठता है कि बारिश से पहले ग्राम पंचायतों में तालाबों की सफाई के नाम पर केवल खानापूर्ति की गई है। तालाब की सफाई कराई जाती तो महिला की जान बच सकती थी।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*