ट्यूशनखोरी बंद नहीं की तो शिक्षक जाएंगे जेल

आगरा। अगर अध्यापकों ने ट्यूशन खोरी बंद नहीं की तो जांच करा कर जेल भेज दूंगा। यह बात जांच करने पहुंचे सहायक जिला विद्यालय निरीक्षक सुभाष गौतम ने कही। साथ ही उन्होंने शिक्षिकों को आचरण और शिक्षण कार्य में बदलाव करने की हिदायत दी।

आगरा जिले में इंटर कॉलेज में अपनी अलग पहचान रखने वाला राष्ट्रीय इंटर कॉलेज इन दिनों सुर्खियों में छाया हुआ है। ट्यूशन खोरी के चलते अध्यापक छात्रों को अपने अपने जाल में फंसाने को लगे हुए हैं जिसकी पूर्व में कॉलेज में क्लास ग्यारह में पढ़ने वाली छात्राओं ने अंग्रेजी की शिक्षिका द्वारा सही से ना पढ़ाने का आरोप लगाते हुए कॉलेज प्रधानाचार्य को हस्ताक्षर युक्त शिकायती पत्र दिया था। शिकायती पत्र की जानकारी होने पर शिक्षिका आग बबूला हो गई और छात्राओं को पंजीकरण ना करने की धमकी दे डाली। पूर्व में छात्रा द्वारा की गई शिकायत को कॉलेज के प्रधानाचार्य संतोष शर्मा ने उच्च अधिकारियों को अवगत करा दिया था।

गुरुवार दोपहर करीब 12:30 बजे एडीआईओएस जांच करने के लिए कॉलेज पहुंचे इस दौरान दर्जनों अभिभावक शिक्षिका की शिकायत करने के लिए कॉलेज पहुंच गए। शिक्षिका अभिभावकों बात का संतुष्ट पूर्वक जवाब नहीं दे सकी और थाना बरहन पुलिस को बुला लिया। मामला कॉलेज का होने की वजह से पुलिस वापस लौट गई। जिस वक्त सहायक जिला विद्यालय निरीक्षक कॉलेज पहुंचे तो उस वक्त कॉलेज में 2 दर्जन से अधिक अभिभावक उपस्थित थे ।छात्राओं और अभिभावकों का आरोप था कि शिक्षिका अंग्रेजी को मास्टरमाइंड की सहायता से पढ़ाती है जो कि उनकी समझ में नहीं आती है। प्रश्न पूछे जाने पर संतुष्ट पूर्वक जवाब नहीं मिलता है। शिकायत से आगबबूला हुई शिक्षिका ने छात्राओं को पंजीकरण ना करने की धमकी दे डाली।

अभिभावकों और अध्यापकों की बात सुनने के बाद जांच करने पहुंचे अधिकारी ने बताया कि मामला ट्यूशन खोरी का प्रतीत हो रहा है। कॉलेज के समस्त शिक्षकों को पत्र के माध्यम से प्रधानाचार्य संतोष शर्मा को कहा गया कि तत्काल सभी शिक्षकों को आदेश जारी किया जाए कि वह ट्यूशन खोरी कर रहे है तो तत्काल बंद कर दें। अगर अध्यापकों ट्यूशन खोरी में लिप्त पाए गए तो उनको जांच कराकर कार्रवाई कर जेल भेज देंगे। वही शिक्षिका से जांच करने पहुंचे अधिकारी ने कई प्रश्न किए लेकिन शिक्षिका संतोष पूर्ण जवाब नहीं दे सकी।

सहायक जिला विद्यालय निरीक्षक के आदेश पर शिक्षिका को कक्षा 11 का क्लास टीचर हटाकर अन्य क्लास में बनाने के लिए कहा गया। वहीं शिक्षिका मंजू सिंह का आरोप है कि कॉलेज में ट्यूशन जारी है। प्रयोगात्मक परीक्षा व अन्य बहाने से छात्रों को फंसाया जा रहा है। इसीलिए उन्हें बेवजह परेशान किया जा रहा है।

राष्ट्रीय इंटर कॉलेज बरहन में तैनात शिक्षिका मंजू सिंह की यह कोई नई कहानी नहीं है। पूर्व में भी शिक्षिका पर कई आरोप लगते चले आए हैं। जांच करने पहुंचे अधिकारी ने विगत वर्ष अध्यापक उपस्थिति रजिस्टर मंगाया उसमें देखा कि शिक्षिका ने बहुत जगह प्रधानाचार्य द्वारा कालेज में अनुपस्थित होने पर लगाई गई अब्सेंट को काटकर जबरन हस्ताक्षर कर दिए गए। शिक्षा की इस हरकत को देखकर अधिकारी दंग रह गए ।

शिक्षिका मंजू द्वारा जिन छात्राओं को पंजीकरण ना करने की धमकी दी गई उन छात्राओं में वर्तमान ग्राम प्रधान बरहन सोना देवी की नातिन भी है। यह प्रकरण परिवार में बताया कि शिक्षकों ने उसको शिकायत करने पर पंजीकरण ना करने की धमकी दी है। गुरुवार सुबह ही प्रधान पति विजय सिंह बघेल कॉलेज पहुंच गए। शिक्षिका प्रधान पति को देखकर आपा खो बैठी और असभ्य भाषा बोलने लगी प्रधान पति ने कहा कि अगर शिक्षिका ने अपने अंदर बदलाव नहीं किया तो वह उच्च अधिकारियों को पत्र लिख अवगत कराएंगे।

इस संबंध में सहायक जिला विद्यालय निरीक्षक सुभाष गौतम का कहना है कि समस्त कॉलेज के स्टाफ को ट्यूशन खोरी ना करने के लिए आदेशित किया गया है और किसी शिक्षक ट्यूशन खोरी लिप्त पाया जाता है तो उसको जांच कराकर कार्रवाई की जाएगी। वहीं सफाई देते हुए कहा कि छात्राएं गलत बहकावे में है। शिक्षिका ने केवल डराने के लिए उनको पंजीकरण ना करने की बात कही थी और शिक्षिका को आचरण और शिक्षण कार्य ठीक से करने की हिदायत दी गई है।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*