आगरा शहर का नाम बदलने को लेकर आगरा विवि के इतिहास विभाग में हुई बैठक, ये बातें आई सामने

आगरा। उत्तर प्रदेश सरकार ने मोहब्बत की नगरी आगरा के नाम बदलने की कवायदे शुरू कर दी है। आगरा का नाम अग्रवन किये जाने को लेकर शासन की ओर से अग्रवन से संबंधित डॉ. भीमराव आंबेडकर विश्वविद्यालय आगरा से साक्ष्य मांगे गए हैं जिस पर विचार मंथन किया जा रहा है।

आपको बताते चले कि भाजपा सरकार में इससे पहले मुगलसराय का नाम पं.दीनदयाल उपाध्याय नगर, इलाहाबाद का नाम प्रयागराज और फैजाबाद जिले का नाम अयोध्या कर दिया गया है।

सूत्रों की मानें तो पूर्व विधायक स्व. जगन प्रसाद गर्ग ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर मांग की थी कि आगरा का नाम बदलकर अग्रवन किया जाए। उनका तर्क था कि आगरा अग्रवालों के कारण प्रसिद्ध है। आगरा का प्राचीन नाम अग्रवन था। अग्रवन को पहले अकबराबाद किया। उसके बाद इसे आगरा कर दिया गया। आगरा का कोई मतलब नहीं होता। इस क्षेत्र में बहुत वन थे और यहां अग्रवाल जाति के लोग रहते थे, इसलिए इसे अग्रवन या अग्रवाल कहते थे जो बाद में आगरा हो गया। ऐसे में फिर से शहर का पुराना नाम अग्रवन या अग्रवाल किया जाए। विधायक ने यह पत्र नवम्बर, 2018 में लिखा था लेकिन शासन ने इस पत्र को अब गंभीरता से लिया है।

स्व. विधायक जगन प्रसाद गर्ग के पत्र पर कार्यवाही करने के लिए शासन ने आगरा विश्वविद्यालय को पत्र भेजकर प्रमाण मांगे हैं कि आगरा को नाम अग्रवन क्यों किया जाए। इस बारे में इतिहास विभागाध्यक्ष प्रोफेसर सुगम आनंद ने इस विषय के जानकारों के साथ अपने कार्यालय में बैठक की। आगरा का प्राचीन नाम अग्रवन था या नहीं, इस पर मंथन हुआ।

प्रो. सुगम आनंद ने बताया कि आगरा गजेटियर में अग्रवन का उल्लेख मिलता है, लेकिन इस बारे में कोई साक्ष्य नहीं है। बृज के 12 वन में भी अग्रवन का उल्लेख नहीं है। हो सकता है कि 24 वन में हो। अग्रवाल समाज के पास इस बात के प्रमाण हों सकते है। उन्होंने कहा कि इतिहास साक्ष्यों के आधार चलता है, आस्था या विश्वास पर नहीं। अगर प्रमाण उपलब्ध हैं तो कोई संदेह नहीं है। इस बैठक के दौरान कोई निष्कर्ष नही निकला लेकिन इसकी अगली बैठक 22 नवम्बर, 2019 तक टाल दी है।

आगरा के नाम बदलने को लेकर जनप्रतिनिधियों की प्रतिक्रियाएं सामने आने लगी है। महापौर नवीन जैन का कहना था कि महाराजा अग्रसेन के नाम का उल्लेख आगरा के नाम के इतिहास से जुड़ा हुआ है और इससे पहले आगरा को अग्रवन कहा जाता था। यदि पुराने इतिहास और साक्ष्य में अग्र या अग्रसेन महाराज का उल्लेख मिलता है तो आगरा का नाम महाराजा अग्रसेन के नाम से जोड़कर बदला जाए तो यह हर्ष की बात होगी।

About admin 2243 Articles
मून ब्रेकिंग एक ऐसा न्यूज़ चैनल है जिसकी कोशिश हर ख़बर या घटना की जानकारी पूरी सत्यता के साथ और जल्द से जल्द आप तक पहुँचाने की है। मून ब्रेकिंग की शुरुआत सितम्बर 2017 से हुई है। मून ब्रेकिंग आपको नेट के जरिये देश-दुनिया, क्राइम, राजनीति, लाइफस्टाइल और मनोरंजन आदि से जुड़ी पूरी जानकारी उपलब्ध करायेगा। साथ ही किसी घटना पर प्रतिक्रिया देने या आपकी आवाज़ बुलंद करने के लिए मून ब्रेकिंग एक साझा मंच भी प्रदान करता है।